Thu. Jun 13th, 2024

*तेल और गैस मिलने से बीकानेर बन सकेगा सेरेमिक का हब*

बीकानेर, 26 दिसंबर। केंद्रीय कानून एवं न्याय राज्य मंत्री श्री अर्जुन राम मेघवाल ने कहा कि बीकानेर नागौर बेसिन के सर्वे में तेल- गैस की खोज से इस क्षेत्र में औद्योगिक विकास के नये आयाम स्थापित हो सकेंगे।

नाल के समीप ओएनजीसी द्वारा ड्रिलिंग प्राकृतिक गैस वेल स्पड की शुरुआत के अवसर पर मंगलवार को आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सर्वे में बीकानेर नागौर बेसिन के 2118 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में तेल और गैस होने की साक्ष्य मिले हैं । इस सर्वे पर अब तक 48 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं। इस सर्वे के आधार पर अब नाल में दो स्थानों पर तथा कोलायत के सालासर गांव में एक स्थान पर ड्रिलिंग का काम प्रारंभ किया गया है। इस कार्य के लिए अनुमानित 49 करोड़ रुपए से अधिक की राशि व्यय होगी। यहां ड्रिलिंग कर तेल और गैस की गुणवत्ता, भंडार और नमूने लिए जाएंगे।
श्री मेघवाल ने कहा कि इस क्षेत्र में सिरेमिक का कच्चा माल बहुतायात से उपलब्ध है। वर्तमान में यहां से कच्चा माल देश के अन्य स्थानों पर भेजा जाता है। यहां तेल और गैस मिलने के बाद बीकानेर सेरेमिक हब बन सकेगा। श्री मेघवाल ने कहा कि बीकानेर में औद्योगिक विकास तेजी से बढ़ रहा है। इस क्षेत्र में सोलर ऊर्जा में 40 हजार करोड़ का निवेश किया जा चुका है
श्री मेघवाल ने कहा कि जिस प्रकार दुबई में तेल मिलने से वहां के विकास को नई ऊंचाई मिली, उसी प्रकार बीकानेर क्षेत्र में भी यदि तेल और गैस मिलता है तो इस क्षेत्र में औद्योगिक विकास के नए आयाम स्थापित हो सकेंगे। उन्होंने बताया कि यहां लिथियम, हीलियम और हाइड्रोजन होने के साक्ष्य भी मिले हैं। साथ ही यहां भूगर्भ में पानी की खोज के संबंध में भी कार्य किया जा रहा है। इससे औद्योगिक विकास परिदृश्य में सकारात्मक बदलाव होगा।
केंद्रीय मंत्री अर्जुनराम ने कहा कि विकसित भारत के लिए हर क्षेत्र का विकास होना आवश्यक है। भूगर्भ में नई खोज होना बीकानेर के लिए सौभाग्य की बात है।
ओएनजीसी की निदेशक(एक्सप्लोरेशन) सुषमा रावत ने इस प्रोजेक्ट की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि ओएनजीसी द्वारा इस क्षेत्र और क्षेत्र वासियों के लिए स्किल डेवलपमेंट सेंटर, मेडिकल हेल्थ तथा ई विद्या के माध्यम से सीएसआर एक्टिविटीज भी की जाएगी। विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों के साथ ड्रिलिंग इत्यादि के संबंध में संवाद कर कौशल विकास की दिशा में विशेष कार्य करवाए जाएंगे। ओएनजीसी के प्रेमचंद नारवाल ने आभार व्यक्त किया।
कार्यक्रम में ओएनजीसी के ऐसेट मैनेजर मनोज शर्मा, मनीष शर्मा, सहित गुमान सिंह राजपुरोहित, कमल रंगा, जितेंद्र राजवी, मोहन कस्वां, भीखाराम, संपत पारीक सहित अन्य गणमान्य नागरिक और ओएनजीसी का स्टाफ उपस्थित रहा।

केंद्रीय मंत्री श्री मेघवाल ने प्राकृतिक गैस वेल ड्रिलिंग कार्य का निरीक्षण किया तथा स्पड प्रकिया की जानकारी ली। उन्होंने परिसर पौधारोपण भी किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *